Search
Close this search box.

भक्तिकाल की विशेषताओं का सामान्य परिचय

भक्तिकाल का सामान्य परिचय देते हुए इसकी विशेषताओं का उल्लेख कीजिये। | Hindi Stack

भक्तिकाल में लोकोन्मुखी साहित्य सर्जन की प्रवृत्ति अधिक मुखर थी। अब इसमें सिद्धों, मुनियों, नाथों तथा सूफियों द्वारा प्रतिपादित विचारधाराएं पल्लवित होने लगीं। वास्तविकता  यह है कि भक्तिकाल में भारत पर मुस्लिम शासन की छाया थी। मुस्लिम शासकों द्वारा इस्लाम धर्म के विस्तार पर जोर दिये जाने से जनता में भय का वातावरण व्याप्त था। देव – मंदिरों का विध्वंस, मूर्तियों का तोड़ा जाना, जन – सामान्य में निराशा एंव आक्रोश की मिली – जुली भावनाओं को जन्म दे रहा था। इन परिस्थितियों में आस्तिकता एंव ईश्वरोपासना ही एकमात्र अवलम्ब थी। इन युगीन भावनाओं के अनुरूप ही इस काल के कवियों का रचना – प्रयास रहा।
भक्तिकाल का सामान्य परिचय देते हुए डॉ० श्यामसुंदर दास लिखते हैं – 

“जिस युग मे कबीर, जायसी, सुर, तुलसी जैसे रससिद्ध कवियों और महात्माओं की दिव्य – वाणी उनके अन्तःकरणों से निकलकर देश के कोने – कोने में फैली थी उसे साहित्य के इतिहास में भक्तिकाल कहते हैं।”

भक्तिकाल की सामान्य प्रवृत्तियां :- भक्तिकाल की सभी विचारधारायें एक ही लक्ष्य की ओर प्रवाहित होती हैं और वह लक्ष्य है – भक्ति। वैष्णव सम्प्रदाय, शैव-सम्प्रदाय, देवी सम्प्रदाय सभी का मूल भगवदविष्यक भक्ति है। निर्गुण एंव सगुण कवियों का प्राप्य भी परमात्मा ही है जिसे वह साकार एंव निराकार में देखते हैं। 

भक्तिकाल की सामान्य प्रवृत्तियों अथवा विशेषताओं का उल्लेख निम्नलिखित है –

  1. नाम की महत्ता :- भक्तिकाल की निर्गुण एंव सगुण दोनों ही शाखाओं में ईश्वर के जप – कीर्तन व राम – स्मरण को उससे भी बड़ा माना गया है।

कबीर ‘नाम’ के मर्म को इस प्रकार समझाते हैं –

दशरथ सुत तिहुँ लोक बखाना ।
राम नाम का मरम न जाना ।

तुलसी भी नाम की महत्ता को स्वीकार करते हुए राम के नाम को राम से बड़ा मानते हैं। उनके अनुसार राम ने तो केवल अहल्या का उद्धार किया था, किन्तु उनका नाम तीनों लोकों के उद्धार में समर्थ है।

  1. गुरु की महत्ता का प्रतिपादन :- भक्तिकाल में गुरु के प्रति विशेष सम्मान की भावना दृहतिगोचर होती है। निर्गुण काव्य – धारा के कबीर एंव सगुण काव्य – धारा के श्रेष्ठ तुलसी तथा कवि जायसी सभी गुरु के प्रति श्रद्धावान हैं।
    कबीर कहते हैं – 

गुरु गोविन्द दोऊ खड़े , काके लागूँ पाँय ।
बलिहारी गुरु आपने , गोविन्द दियो बताय ।।

तुलसी कहते हैं –

बंदऊँ गुरु पद पदुम परागा । सुरुचि सुबास सरस अनुरागा ।
अमिअ मूरिमय चूरन चारु । समन सकल भव रुज परिवारू ।।

जायसी ने भी “गुरु सुआ मोहि पन्थ दिखावा” कहकर गुरु को ही अपना मार्गदर्शक माना है।

  1. भक्ति का प्राधान्य :- भक्तिकाल की सभी शाखाओं में भक्ति-भावना की प्रधानता रही है। निर्गुण, सगुण, सूफी सभी कवियों के काव्य का मूल भक्ति है। कबीर राम की भक्ति को संसार के सभी वैभवों से बड़ा मानते हैं तथा सगुण काव्य के सूरदास का चित्त भी ईश्वर के रूप में रमण करता है –

जायसी के चारों अवस्थाओं ( शरीयत, तरीकत, हकीकत और मारिफ़त ) को भक्ति का साधन माना है। रामभक्त एंव कृष्णभक्त कवियों के काव्य को तो एकमात्र आधार भक्ति ही है। तुलसीदास की तो समस्त भक्तिभावना राम में डूबकर राममय हो उठी है।
यह तुलसी की भक्ति का चर्मोत्कर्ष ही है कि वह विष्णु के केवल राम रूप को ही प्रणाम करते हैं –

कहा कहौ छवि आपकी , भले बने हो नाथ ।
तुलसी मस्तक तब नवै , जब धनुष बाण लो हाथ ।।

  1. संसार की असारता का चित्रण :- भक्तिकालीन काव्य मे दार्शनिकता पर जोर दिया गया है। कबीर संसार को असत्य एंव ब्रह्म को ही सत्य मानते हैं। संसार की असारता का वर्णन करते हुए कबीर ने कहा है – 

यहु ऐसा संसार है , जैसा सैम्बल फूल ।
दिन दस के ब्यौहार के , झूठे रंग न भूल ।।
झूठे सुख को सुख कहै , मंत है मन मोद ।
खलकु चबीणा काल का , कुछ मुख में कुछ गोद ।।

  1. आडम्बरों का विरोध :- भक्तिकालीन कवि मिथ्या आडम्बरों का विरोध कर उन्हें त्यागने का संदेश देते हैं। कबीर तो समाज सुधारक के रूप में प्रसिद्ध हैं ही तुलसी भी इस क्षेत्र में पीछे नहीं हैं।
    कबीर झूठे पाखण्डी लोगों का उपहास करते हुए कहते हैं –

मूँड मुडाय हरि मिलैं तो सब कोई लेय मुडाय ।
बार – बार के मूँडते , भेड़ न बैकुण्ठ जाय ।।

तुलसी जाति-पाँती का विरोध कर सभी को राम के प्रेम का पात्र मानते हैं –

जाति – पाँती पूछे नहीं कोई । हरि को भजे सो हरि को हाई ।।

  1. अहंकार का त्याग :- अहंकार परमात्मा से मिलन में बाधा पहुंचाता है। अंह भाव को त्याग कर ही जीव परमात्मा में एकरूप होता है।
    कबीर कहते हैं –

जब मैं था तब हरि नहीं , अब हरि है मैं नाहीं ।
 सब अँधियारा मिटि गया , जब दीपक देख्या माँहि ।।

तुलसी की भक्ति तो दैन्य-भाव की भक्ति है। तुलसी राम को अपना प्रभु मानते हुए स्वयं को उनका दास समझते हैं। वह माता सीता से प्रार्थना करते हुए कहते हैं –

कबहुँक अम्ब अवसर पाइ ।
मेरियौ सुधि घायबी कछु करून कथा चलाई ।।

स्वयं को अत्यधिक दीन, हीन, क्षीण समझकर तुलसी ने राम की कृपा की याचना की है।

  1. काव्य-रूप  :-  भक्तिकाल में काव्य-रचना के दो रूप परिलक्षित होते हैं । राम भक्तिशाखा के कवियों ने अधिकांशतः प्रबंध – काव्य में रचना की है तथा संतकवि मुक्तक रचना शैली को अपनाते हैं। ‘श्रीरामचरितमानस’ एंव ‘पद्मावत’  श्रेष्ठ प्रबंध – काव्य हैं तथा कबीर की साखियों में ज्ञान की अगाधता एंव सूर के पदों में प्रेम की सरसता भक्तजनों को आकण्ठ डुबो देती है।
  1. भाषा :- भाषा की दृष्टि से भक्तिकाल में अवधी एंव ब्रज दोनों क्षेत्रीय बोलियों का साहित्यिक विकास दृष्टिगत होता है। तुलसीदास ने ‘रामचरितमानस’ में अवधी को चर्मोत्कर्ष प्रदान किया है तथा सूरदास का काव्य बृजभाषा के माधुर्य से मण्डित है।

निष्कर्ष :-

भक्तिकाल सभी दृष्टियों से साहित्य का सर्वोत्तम काल है। इसमें भाव एंव कला दोनों का उत्कृष्ट स्वरूप प्राप्त होता है। इसी काल में कबीर, रैदास, सूर, तुलसी, जायसी, रसखान एंव मीरा जैसे साधक हुए। इन्होंने भारत के ही नही, अपितु विश्व के लोगों को अपने काव्य द्वारा एक नवीन आलोक प्रदान किया, जिसमें वह अपना उचित मार्ग चुन सकें।


0 users like this article.

Leave a Reply

Related Articles

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन एवं विभिन्न कालों का उपयुक्त नामकरण | Hindi Stack

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और...

हिंदी में साहित्य का इतिहास लेखन की परम्परा | Hindi Stack

हिंदी में साहित्य का इतिहास ले...

हिंदी नाटक के उद्भव एंव विकास को स्पष्ट कीजिए ? | Hindi stack

हिंदी नाटक के उद्भव एंव विकास ...

हिंदी का प्रथम कवि | Hindistack

हिंदी का प्रथम कवि

सूफी काव्य की महत्वपूर्ण विशेषताएँ | Hindi Sahitya

सूफी काव्य की विशेषताएँ

राही कहानी | सुभद्रा कुमारी चौहान | Rahi kahani by Subhadra Kumari Chauhan | Hindi stack

सुभद्रा कुमारी चौहान की कहानी ...

No more posts to show

Tags

हिंदी साहित्य
Hindi sahitya
अनुवाद
कहानी
Anuwad
Translation
Anuvad
Kahani
Aadikal
उपन्यास
आदिकाल
hindi kahani
Aadhunik kaal
भक्तिकाल
आधुनिक काल
रीतिकाल
फणीश्वरनाथ रेणु
Bhisham Sahni
आरोह
Vitaan

Latest Posts

1
रीतिकाल की परिस्थितियों का विवेचन
2
महादेवी वर्मा के काव्य में वेदना और करूणा की अभिव्यक्ति
3
आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों पर प्रकाश डालिए?
4
शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स्वर
5
हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और नामकरण
6
राम की शक्ति पूजा की मूल संवेदना

Popular Posts

रीतिकाल की प्रमुख परिस्थितियों का विवेचन कीजिए। | Hindi Stack

रीतिकाल की परिस्थितियों का विव...

महादेवी वर्मा के काव्य में वेदना एंव करूणा की अभिव्यक्ति पर प्रकाश डालिए ? | Hindi Stack

महादेवी वर्मा के काव्य में वेद...

आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों पर प्रकाश डालिए | Hindi Stack

आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों ...

शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स्वर | Hindi Stack

शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स...

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन एवं विभिन्न कालों का उपयुक्त नामकरण | Hindi Stack

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और...

राम की शक्ति पूजा की मूल संवेदना | Hindi Stack

राम की शक्ति पूजा की मूल संवेद...