Search
Close this search box.
छायावाद की परिभाषाएँ | Hindistack

छायावाद की परिभाषाएँ

छायावाद की परिभाषाएँ | hindistack
छायावाद की परिभाषाएँ
[favorite_button post_id="" site_id=""]

हिंदी कविता के क्षेत्र में ‘भक्तिकाल’ के बाद सबसे अधिक प्रसिद्ध शब्द अगर कोई है तो वह है ‘छायावाद’ और आज की कविता के अनेक वादों में से सबसे अधिक विवादित वाद भी ‘छायावाद’ ही है। यह सच है  कि ‘छायावाद’ शब्द का प्रयोग सबसे पहले मुकुटधर पांडे ने ‘श्री शारदा’ नामक पत्रिका के 1920 ई. के चार अंकों में ‘हिंदी में छायावाद’ शीर्षक पर व्यंग्यात्मक लेख लिखकर विस्तृत और गहन विवेचन प्रस्तुत किया था और यहीं से ‘छायावाद’ आज तक साहित्य जगत में एक बड़ा चर्चा का विषय बना हुआ है। तभी तो इतने वर्षों के व्यतीत हो जाने के बाद भी साहित्य का जिज्ञासु यह समझने के लिए कितना उत्सुक नजर आता है की छायावाद क्या है ? विद्वानों ने ‘छायावाद’ को विभिन्न दृष्टिकोणों से परिभाषित करने का प्रयास किया है, जिसमें से कुछ छायावाद की परिभाषाएँ इस प्रकार हैं:

‘छायावाद’ की परिभाषाएँ :

  • आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने छायावाद को स्पष्ट करते हुए लिखा है -“छायावाद एक शैली विशेष है, जो लाक्षणिक प्रयोगों, अप्रस्तुत विधानों और अमूर्त उपमानों को लेकर चलती है।”
  •  महादेवी वर्मा  “छायावाद प्रकृति के बीच जीवन का उद्-गीथ है।”
  •  डॉ. राम कुमार वर्मा ने छायावाद और रहस्यवाद में कोई अंतर नहीं माना है। छायावाद के विषय में उनके शब्द हैं- “आत्मा और परमात्मा का गुप्त वाग्विलास रहस्यवाद है और वही छायावाद है।” या “परमात्मा की छाया आत्मा पर पड़ने लगती है और आत्मा की छाया परमात्मा पर। यही छायावाद है।”
  • जयशंकर प्रसाद ने छायावाद को अपने ढ़ग से परिभाषित करते हुए कहा है – “कविता के क्षेत्र में पौराणिक युग की किसी घटना अथवा देश-विदेश की सुंदरी के बाह्य वर्णन से भिन्न जब वेदना के आधार पर स्वानुभूतिमयी अभिव्यक्ति होने लगी तब हिंदी में उसे छायावाद के नाम से अभिहित किया गया।”
  • डॉ. देवराज छायावाद गीतिकाव्य है, प्रकृति काव्य है और प्रेम काव्य है। आधुनिक हिंदी साहित्य में यह एक महान आंदोलन के रूप में आया।
  • पंडित नन्ददुलारे वाजपेयी : ‘मानव तथा प्रकृति के सुक्ष्म किन्तु व्यक्त सौंदर्य में आध्यात्मिक छाया का भाव छायावाद है।’
  • गंगा प्रसाद पाण्डेय “किसी वस्तु में एक अज्ञात, सप्राण छाया की झाँकी पाना अथवा आरोप करना छायावाद है।”
  • गुलाबराय “प्रकृति को गोचरता की सीमा में बांधकर उसमें आत्मीयता स्थापन करने अथवा किसी वस्तु को उपयोगिता मात्र के दृष्टिकोण से न देखकर उसको भावुकता की कसौटी पर कसने की प्रवृत्ति को ही छायावाद कहते हैं।
  • शांतिप्रिय द्विवेदी : “छायावाद एक दार्शनिक अनुभूति है।”  
  • डॉ. नामवर सिंह “छायावाद उस सामाजिक-सांस्कृतिकक जागरण की काव्यात्मक अभिव्यक्ति है जो एक और विदेशी पराधीनता से मुक्ति का स्वर लेकर आती है तो दूसरी ओर काव्यगत रूढ़ियों से।”
    “छायावाद व्यक्तिवाद की कविता है, जिसका आरंभ व्यक्ति के महत्व को स्वीकार करने और करवाने से हुआ।”
  • हजारी प्रसाद द्विवेदी छायावाद एक विशाल सांस्कृतिक चेतना का परिणाम था। यह केवल पाश्चात्य प्रभाव नहीं था अपितु कवियों की भीतरी व्याकुलता ने ही नवीन भाषा-शैली में अपने को अभिव्यक्त किया।
  • डॉ. नगेंद्र ने छायावाद को ”स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह” बताते हुए कहा है कि “युग की उद्बुद्ध चेतना ने बाह्य अभिव्यक्ति से निराश होकर जो आत्मबद्ध अन्तर्मुखी साधना आरंभ की वही काव्य में छायावाद है।”
  • मुकुटधर पाण्डेय “यह कविता ना होकर कविता की छाया है। परमात्मा के प्रति प्रणय रहस्यवाद है ठीक उसी प्रकार प्रकृति के प्रति प्रणय छायावाद है।”
  • डॉ रामविलास शर्मा ने कहा है कि “छायावाद स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह नहीं रहा वरन् थोथी नैतिकता, रूढ़िवाद और सामंती साम्राज्यवादी बन्धनों के प्रति विद्रोह रहा है।”

0 users like this article.

Leave a Reply

Related Articles

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन एवं विभिन्न कालों का उपयुक्त नामकरण | Hindi Stack

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और...

हिंदी में साहित्य का इतिहास लेखन की परम्परा | Hindi Stack

हिंदी में साहित्य का इतिहास ले...

हिंदी नाटक के उद्भव एंव विकास को स्पष्ट कीजिए ? | Hindi stack

हिंदी नाटक के उद्भव एंव विकास ...

हिंदी का प्रथम कवि | Hindistack

हिंदी का प्रथम कवि

सूफी काव्य की महत्वपूर्ण विशेषताएँ | Hindi Sahitya

सूफी काव्य की विशेषताएँ

राही कहानी | सुभद्रा कुमारी चौहान | Rahi kahani by Subhadra Kumari Chauhan | Hindi stack

सुभद्रा कुमारी चौहान की कहानी ...

No more posts to show

Tags

हिंदी साहित्य
Hindi sahitya
अनुवाद
कहानी
Anuwad
Translation
Anuvad
Kahani
Aadikal
उपन्यास
आदिकाल
hindi kahani
Aadhunik kaal
भक्तिकाल
आधुनिक काल
रीतिकाल
फणीश्वरनाथ रेणु
Bhisham Sahni
आरोह
Vitaan

Latest Posts

1
रीतिकाल की परिस्थितियों का विवेचन
2
महादेवी वर्मा के काव्य में वेदना और करूणा की अभिव्यक्ति
3
आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों पर प्रकाश डालिए?
4
शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स्वर
5
हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और नामकरण
6
राम की शक्ति पूजा की मूल संवेदना

Popular Posts

रीतिकाल की प्रमुख परिस्थितियों का विवेचन कीजिए। | Hindi Stack

रीतिकाल की परिस्थितियों का विव...

महादेवी वर्मा के काव्य में वेदना एंव करूणा की अभिव्यक्ति पर प्रकाश डालिए ? | Hindi Stack

महादेवी वर्मा के काव्य में वेद...

आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों पर प्रकाश डालिए | Hindi Stack

आदिकाल की प्रमुख परिस्थितियों ...

शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स्वर | Hindi Stack

शेखर एक जीवनी में विद्रोह का स...

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन एवं विभिन्न कालों का उपयुक्त नामकरण | Hindi Stack

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और...

राम की शक्ति पूजा की मूल संवेदना | Hindi Stack

राम की शक्ति पूजा की मूल संवेद...